OTP आया क्या?

एक OTP आएगा.

अरे! OTP का इंतजार कर रहा हूँ.

आपने ने भी ये शब्द जरूर सुने होंग़े. अगर आपने गौर किया हो तो ऊपर लिखे तीनों वाक्यों में एक शब्द कॉमन हैं OTP.

क्या आप जानते हैं ये OTP क्या होता हैं? ये किस काम आता हैं? इसे किसलिए भेजा जाता हैं?

नहीं! तो कोई बात नहीं. आज इस लेख को पढकर आप OTP के बारे में जान जाऐंग़े. क्योंकि इस  लेख में हम आपको OTP की पूरी जानकारी दे रहे हैं.

Table of Content
OTP क्या हैं – What is OTP in Hindi?
OTP सुरक्षित कैसे हैं?
OTP का उपयोग – Uses of OTP in Hindi?
OTP के फायदें – Advantages of OTP in Hindi?
आपने क्या सीखा?
OTP क्या हैं – What is OTP in Hindi?
ऊपर जाएं ↑

OTP एक प्रकार का सुरक्षा कोड (पासवर्ड) हैं जिसके द्वारा यूजर को वैध प्रमाणित किया जाता हैं. यह पासवर्ड केवल एक बार ही इस्तेमाल हो सकता हैं. इसलिए इससे एक बार में एक Log in Session और भुगतान का प्रमाणीकरण हो सकता हैं.

OTP का पूरा नाम (OTP Full Form in Hindi) One Time Password होता हैं. और इसे One Time Pin के नाम से भी जाना जाता हैं.

पारंपरिक पासवर्ड आधारित ऑथेंटिकेशन की तुलना में OTP तेज तथा सुरक्षित है. और विभन्न प्रकार के कार्यों के लिए OTP द्वारा 2-Step-Authentication किया जाता है. यह तरीका यूजर तथा संस्था दोनों के लिए एक दूसरे को जांचने का बेहतरीन साधन हैं.

यह पासवर्ड सिस्टम द्वारा ऑटोमेटिक जेनरेट होता हैं. जो संख्या, शब्द, विशेष-चिन्ह आदि की एक 4-8 वर्णों की विशेष श्र्खंला (String) होती हैं. यह विशेष श्र्खंला 10 सैकंड से आधे घंटे तक मान्य रह सकती हैं. इसके बाद यह अवैध हो जाती हैं. और इससे यूजर का प्रमाणीकरण नही किया जा सकता हैं.

यूजर का प्रमाणिकरण करने के लिए OTP को यूजर के पास ऑनलाईन तथा ऑफलाईन दोनों तरीकों से भेजा जाता हैं. डिजिटल रूप में SMS, Email, Messenger का उपयोग होता हैं. और ऑफलाईन के लिए यूजर के पते पर कागज पर छापकर डाक द्वारा भेजा जाता हैं.

OTP सुरक्षित कैसे हैं?
ऊपर जाएं ↑

OTP अन्य प्रकार के पासवर्ड से सुरक्षित हैं. और असल व्यक्ति की पहचान करने के लिए नेटलोक में प्रमाणिकरण का तेज और सरल साधन हैं. इसके द्वारा सही व्यक्ति तक सही जानकारी की पहुँच शत-प्रतिशत सुनिश्चित हो पाती हैं.

जैसे हमने ऊपर बताया कि इसे सिस्टम द्वारा ऑटोमेटिक जेनरेट किया जाता हैं. इसलिए हम इंसान का इसमें सीधा हस्तक्षेप  नहीं होता हैं. और हर ट्रांजेक्शन, सत्र के लिए रेन्डम कोड बनाया जाता हैं. इसलिए हैकर या अन्य व्यक्ति इसका अनुमान लगाने में असफल हो जाते हैं.

इसके अलावा यह समय-आधारित हैं. इसलिए इसे केवल एक बार ही इस्तेमाल किया जा सकता हैं. अगर हमलावर पासवर्ड को प्राप्त भी कर लेता है, तो इस स्थिति में OTP System यह सुनिश्चित करता है कि पिछले सत्र में बनाये गए डाटा की पूरी जानकारी के बिना एक सत्र को बाधित नहीं किया जा सकता हैं.  अतः इस प्रकार हैकर्स द्वारा हमले की सतह को औऱ कम किया जा सकता है.

OTP का उपयोग – Uses of OTP in Hindi?
ऊपर जाएं ↑

OTP का इस्तेमाल अनेक कार्यों के लिए किया जाता है जिसमें नेट बैंकिंग भी शामिल है. तथ पैसों का लेन-देन करते समय पुष्टिकरण के लिए मोबाइल में OTP भेजा जाता है.
ऑनलाइन शॉपिंग करते समय भुगतान की प्रक्रिया को पूरा करते समय मोबाइल नंबर पर OTP भेजा जाता है. जिससे हम ऑनलाइन सुरक्षित पेमेंट कर सकते हैं.
दैनिक जीवन के अनेकों कार्य जैसे नया सिम कार्ड खरीदते समय रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर OTP मैसेज भेजा जाता है. ताकि सिम कार्ड का प्रमाणिकरण हो जाए. और ग्राहक की पहचान भी साबित हो जाए.
किसी वेबसाइट अथवा एप में लॉग इन करते समय यदि हम रजिस्टर्ड मोबाइल नम्बर का पासवर्ड भूल जाते हैं, तो दोबारा उस नंबर पर OTP प्राप्त कर नया पासवर्ड सेट कर सकते हैं. यह OTP वास्तविक यूजर की पहचान साबित करने के उद्देश्य से ही भेजा जाता हैं.
OTP का उपयोग Reactivation के लिए भी किया जाता है, अर्थात लंबे समय बाद यदि कोई यूज़र किसी एप या वेबसाइट में लॉगिन करता है, तो यूज़र की सिक्योरिटी के लिए एक OTP भेजा जाता है, जिससे वेबसाइट पर लॉगिन करने वाले व्यक्ति की पहचान की जाती है.
सुरक्षा की दृष्टि से एक डिवाइस में अनेक एकाउंट (Multiple Account) का उपयोग करने के लिए OTP भेजा जाता है. जो यह सुनिश्चित करता है कि आपके सभी डिवाइस सिक्योर हैं तथा उस एकाउंट से लिंक है जिसमें एकाउंट लॉगिन हैं. तथा किसी डिवाइस तथा एकाउंट के बीच सुरक्षा को मापने का बेहतर तरीका है OTP.
इनके अलावा लॉगिन करते समय सही यूज़र को पहचानने के लिए OTP बैंक, गूगल, अमेज़न, फिल्पकार्ट आदि ई-कॉमर्स वेबसाइट तथा अन्य डिजिटल वॉलेट सेवाओं Paytm, Freecharge द्वारा भी किया जाता है.

OTP के फायदें – Advantages of OTP in Hindi?
ऊपर जाएं ↑

सुरक्षा – इसे सुरक्षा कोड इसलिए कहा जाता हैं क्योंकि यह यूजर का सुरक्षा कवच हैं. और पासवर्ड चोरी होने के बाद भी यूजर अकाउंट सुरक्षित रहता हैं. कोई अन्य व्यक्ति उसे एक्सेस नहीं कर पाता हैं.

यूजर का प्रमाणिकरण – इसके द्वारा वास्तविक यूजर का प्रमाणिकरण हो जाता हैं. यदि सही यूजर ही अपने अकाउंट के माध्यम से कोई गतिविधि कर रहा हैं. जैसे पासवर्ड बदलना, मोबाईल नंबर अपडेट करना आदि तो इनके प्रमाणिकरण के लिए सिस्टम यूजर के द्वारा चुने गए तरीके के अनुसार उसे OTP भेजता हैं.

धोखाधडी से बचाव – जब हम ऑनलाईन पैसे का लेन-देन करते हैं तो बैंक खाताधारक से अनुमति लेने के लिए OTP भेजता हैं. ताकि असल खाताधारक की पहचान साबित हो जाए. इस प्रकार हम ठगी के शिकार होने से बचे रहते हैं. और वित्तिय लेन-देन में ही इसका सबसे ज्यादा उपयोग किया जाता हैं.
सोशल मिडिया अकाउंट पर ताला – हम OTP के द्वारा अपने सोशल मिडिया अकाउंट (फेसबुक, वाट्सएप ट्विटर गूगल इत्यादि) पर ताला लगा सकते हैं. और उन्हे ज्यादा सुरक्षित बना सकते हैं.
मुफ्त – इसके लिए यूजर को कोई अतिरिक्त शुल्क नही देना पडता हैं. इसकी जिम्मेदारी संबंधित वेबसाईट एप अथवा संस्थान की होती हैं. और उसे 2-Step-Authentication के लिए कोई ना कोई टूल उपलब्ध करवाना अनिवार्य हैं.
तेज – OTP से यूजर की पहचान सैकण्डों में साबित हो जाती हैं. यूजर को अपने पहचान दस्तावेज लेकर मजिस्ट्रैट के पास हाजिर नहि होना है.
अनिवार्य नहीं – यह सुरक्षा कवच हैं. मगर हर जगह इसे अनिवार्य नही किया गया हैं. यह पूरी तरह ग्राहक की मर्जी पर निर्भर करता हैं. वह OTP की सुरक्षा पाना चाहता है या नहीं.
आपने क्या सीखा?
ऊपर जाएं ↑

इस लेख में हमने आपको OTP – One Time Password के बारे में पूरी जानकारी दी हैं. आपने जाना कि ओटीपी क्या होता हैं? इसके फायदें तथ उपयोग क्या है? हमें उम्मीद हैं कि यह लेख आपके लिए उपयोगी साबित होगा.