स्मार्टफोन क्या हैं इसकी पूरी जानकारी हिंदी में


आज की डिजिटल दुनिया में अधिकतर लोग एक छोटा सा डिवाइस हमेशा अपने पास रखते हैं. जिसे आप “स्मार्टफोन” के नाम से जानते हैं. जिसके द्वारा हम अनेक कार्यों को घर बैठे आसानी से कर सकते हैं.

लेकिन अब भी कई स्थानों में जहाँ इंटरनेट धीरे-धीरे पहुँच रहा है,  वहाँ लोगों के लिए यह जानना जरूरी है कि स्मार्टफोन क्या है? इसके क्या कार्य हैं? इसके अलावा एक स्मार्टफोन यूजर होने के नाते हमारे लिए स्मार्टफोन के बारे पर्याप्त जानकारी होना उपयोगी है.

इसलिए इस लेख में हम स्मार्टफोन के बारे में पूरी जानकारी दे रहे हैं. अध्ययन की सुविधा के लिए हमने इस लेख को निम्न भागों में बांटा हैं.


स्मार्टफोन क्या हैं – What is Smartphone in Hindi?

स्मार्टफोन उन मोबाइल्स को कहते हैं जिनकी हार्डवेयवर तथा कनेक्टिविटी क्षमता सामान्य मोबाइल फोन (कीपैड फ़ोन) की तुलना में कई गुना अधिक होती है. यह मोबाइल कंप्यूटिंग का एक प्रकार है. स्मार्टफोन में मौजूद आधुनिक हार्डवेयर, सॉफ्टवेयर क्षमता तथा मोबाइल ऑपरेटिंग सिस्टम इसे फ़ीचर फ़ोन से अलग बनाता है.

आरंभ में कीपैड मोबाइल लॉन्च किए गए थे. जिनकी मदद से हम केवल कॉलिंग, मैसेजिंग, कैलकुलेटर आदि सुविधा का इस्तेमाल कर सकते थे. परंतु समय के साथ मल्टीमीडिया कीपैड फोन को विकसित किया गया जिससे यूजर कॉलिंग के साथ-साथ गाने, मूवी देखना, विडियो गेम खेलना आदि कार्य सकते थे.

फिर PDAs (Personal Digital Assistant)  के साथ मीडिया प्लेयर, जीपीएस आदि फीचर उपलब्ध करवाए गए. परंतु वर्तमान समय में तकनीक में परिवर्तन के साथ इन PDAs की जगह स्मार्टफोन ले चुका है. जिनमें टच स्क्रीन, वाईफाई, वेब ब्राउजिंग आदि फ़ीचर्स शामिल हैं.

स्मार्टफोन आज कम्प्युटर का पूरक बनता जा रहा हैं. जिसके कारण हर कार्य को कम्प्युटर के बजाये स्मार्टफोन के जरिये किया जाने लगा हैं. और बिजनेस भी अपने उत्पादों को स्मार्टफोन के अनुकूल बना रहे हैं.

स्मार्टफोन का इतिहास – History of Smartphone in Hindi?

प्रथम व्यवसायिक रूप से उपलब्ध स्मार्टफोन को 1992 में Frank Canova द्वारा विकसित एक प्रोटोटाइप के रूप में शुरू किया गया. जिसे “Angler” नाम दिया गया. इसी डिवाईस को कम्प्युटर इंडस्ट्री के व्यापारिक कार्यक्रम (COMDEX) में प्रदर्शित किया गया. फिर 1994 में इसी डिवाईस का सुधरा रुप BellSouth द्वारा Simon Personal Communicator नाम से बाजार में उतारा गया. यह डिवाईस मेल और फैक्स भेज सकता था. जिसमें कोनटेक्ट बुक के साथ सेलुलर फीचर भी था.

1990 के दशक में कई मोबाइल यूज़र्स अपने साथ पीडीए डिवाइस रखते थे. यह डिवाइस Palm OS, Newton, Symbian ऑपरेटिंग सिस्टम पर कार्य करते थे. समय के साथ इन ऑपरेटिंग सिस्टम ने मोबाइल ओपरेटिंग सिस्टम रूप ले लिया. इस समय जो भी तथाकथित स्मार्टफोन बन रहे थे वे सभी Hybrid Device थे. जिनमें PDA डिवाईस की सॉफ्टवेयर खूबी के साथ भिन्न हार्डवेयर का इस्तेमाल होता था.

1996 में नोकिया ने अपने कुछ PDAs बाजार में उतारे जो काफि लोकप्रिय हुए. इसके बाद जापानी कंपनी NTT DoCoMo ने अपना मोबाईल इंटरनेट डिवाईस i-mode बाजार में उतारा जिसने स्मार्टफोन इंडस्ट्री में धमाका कर दिया. मगर अभी भी जापान के बाहर स्मार्टफोन दुर्लभ चीज थी.

इसके बाद नोकिया, ब्लैकबैरी तथा विंडोज ने अपने स्मार्टफोन बाजार में उतारने शुरु किये. ये कंपनिया अभी तक बिजनेस के लिए अपने डिवाईस बना रही थी. और नोकिया नें Eseries का केवल बिजनेस को केंद्रित कर रही थी. इसकी सफलता के बाद नोकिया नें आम लोगों के लिए भी Nseries नाम से स्मार्टफोन बाजार में उतारे और समय स्मार्टफोन बाजार का राजा बन गई. और सन 2010 तक Symbian OS नंबर एक मोबाईल ऑपरेटिंग सिस्टम था.

फिर 2007 में Apple Computer नें iOS पर आधारित पहला iPhone बाजार में उतारा. जिसमें टचस्क्रीन के साथ सभी आधुनिक फीचर मौजूद थे. जिनका उपयोग हम आज करते हैं.

वर्ष 2008 में पहला एंड्राइड फ़ोन HTC Dream लॉन्च किया गया जिसे G1 के नाम से भी जाना जाता है. यह स्मार्टफोन अमेरिका समेत यूरोप के कुछ देशों में लॉन्च किया गया जो पूरी तरह एंड्रॉयड ऑपरेटिंग सिस्टम पर कार्य करता है.  एंड्राइड स्मार्टफोन में आकषर्क फ़ीचर्स तथा सस्ते दाम से बढ़ती लोकप्रियता के कारण समय के साथ अनेक मोबाइल कंपनियों द्वारा एंड्रॉयड स्मार्टफोन को बाजार में लांच किये जाने लगे.

आज अधिकतर स्मार्टफोन Google के Android OS पर ही चलते हैं. इसके बाद iOS का नंबर आता हैं.

कुछ लोकप्रिय स्मार्टफोन – Top Smartphones


iPhone
Google Pixel
One Plus
Sony Xperia
Samsung Galaxy

स्मार्टफोन का उपयोग –  Uses of Smartphone in Hindi?

स्मार्टफोन हमारे दैनिक जीवन का साथी बन चुका हैं. अगर हमारे साथ स्मार्टफोन नही होगा तो सुना-सुना और खालीपन महसूस होता हैं. इसके अलावा डिजिटल साक्षरता के कारण बहुत सारे काम स्मार्टफोन के माध्यम से होने लगे है. इसलिए स्मार्टफोन हमारे लिए उपयोगी बनते जा रहे हैं.

कॉलिंग करना – यह फीचर सबसे ज्यादा इस्तेमाल होता हैं. और हम एक साधारण फोन की तरह ही कॉलिंग कर सकते हैं. जिसके साथ हमें विडियों कॉलिंग की सुविधा भी मिलती हैं.

मैसेज, ईमेल भेजना – आप अपने स्मार्टफोन के द्वारा कम्प्युटर की तरह अपने मैसेज, ईमेल भेज सकते है और प्राप्त होने पर उन्हे पढ सकते है, जवाब दे सकते हैं.
मैप और जीपीएस – लगभग सभी स्मार्टफोन के साथ इन-बिल्ट मैप और जीपीएस फीचर आता हैं. जिसका लाभ आप यात्रा करने पर ले सकते हैं. यदि आप किसी नई जगह पर है तो रास्ता ढूँढने में स्मार्टफोन से बेहतर मार्गदर्शक नही हैं.
मोबाईल बैंकिग – आधुनिक समय में आप बैंकिग के कार्य भी स्मार्टफोन पर निपटा सकते हैं.
बिल भुगतान, टिकट बुकिंग, रिचार्ज – स्मार्टफोन के जरिये आप घर बैठे-बैठे बिजली, पानी, गैस, टेलिफोन, इंटरनेट आदि बिलों का भुगतान कर सकते हैं. यदि आपको काम के सिलसिलें में बाहर आना-जाना पडता हैं. तब आप स्मार्टफोन के द्वारा ही अपनी ट्रैन, बस, प्लेन टिकट बुक करा सकते हैं. इसके अलावा आप मोबाईल रिचार्ज, डीटीएच रिचार्ज भी कर सकते हैं.
मनोरंजन – स्मार्टफोन आपके लिए गाना बजा सकता हैं. आपकी मन पसंद फिल्म चला सकता हैं. आप विडियों गेम खेल सकते है. जिस प्रकार का मनोरंजन आपको पसंद है. स्मार्टफोन आपके लिए उपलब्ध करा सकता हैं.
फोटों तथा विडियों बनाना – यदि आपके स्मार्टफोन हैं तो आपको अलग से डिजिटल कैमरा खरीदने की जरूरत नही पडने वाली हैं. क्योंकि स्मार्टफोन में कैमरा फीचर आता हैं. जिसके द्वारा आप किसी भी कार्यक्रम के फोटों खींच सकते हैं और विडियों बना सकते हैं.
इंटरनेट का इस्तेमाल – आज कम्प्युटर से भी ज्यादा मोबाईल फोन के द्वारा इंटरनेट का उपभोग होता हैं. और आधुनिक स्मार्टफोन के जरिये आप कम्प्युटर के समान ही इंटरनेट अनुभव कर सकते हैं. जिसके द्वारा आप अपने लिए उपयोगी जानकारी कभीं भी, कहीं भी रहकर ढूँढ सकते हैं.
उपयोगी एप्स – स्मार्टफोन के लिए बहुत सारे उपयोगी एप्स बनाए जाने लगे है. जैसे WhatsApp, Chrome Browser, Paytm आदि जिनके द्वारा आप कई दैनिक कार्य निपटा सकते हैं. अकेले Google Play Store (एंड्रॉइड डिवाईस के लिए एप बाजार) में 1 लाख से भी ज्यादा एप उपलब्ध हैं.
स्मार्टफोन के मुख्य भाग – Parts of Smartphone in Hindi?
ऊपर जाएं ↑

Display – स्मार्टफोन में आउटपुट के लिए टचस्क्रीन का इस्तेमाल होता हैं. यह स्क्रीन LCD या LED तकनीक पर आधारित होती हैं. इसी के द्वारा आप विडियों, एप्स, गेम आदि को चलाते है. अपने डॉक्युमेंट देख पाते हैं.
Battery – एक स्मार्टफोन अपने आंतरिक उपकरणों को पावर देने के लिए बैटरी का उपओय्ग करता हैं. यह बैटरी रिचार्जेबल होती हैं. इसलिए आप इसे बार-बार रिचार्ज कर सकते हैं. बैटरी लाईफ लंबी होती हैं और बैकअप भी ज्यादा होता हैं.
Memory – स्मार्टफोन में भी कम्प्युटर की तरह डाटा स्टोरेज करने के लिए मेमोरी का इस्तेमाल होता हैं. इसके लिए इनमें मेमोरी कार्ड स्लॉट भी बनाए जाते हैं. यूजर ज्यादा डाटा स्टोर कर सके. साथ में डिवाईस की कार्यक्षमता को बढाने के लिए अलग से RAM का भी इस्तेमाल होता हैं.
Processor – कम्प्युटर की तरह स्मार्टफोन भी अपना कार्य करने के लिए प्रोसेसर पर निर्भर होता हैं. और यह किसी कम्प्युतर प्रोसेसर के बराबर ही होता हैं.
Operating System – फीचर फोन में ऑपरेटिंग़ सिस्टम नहीं होता था. मगर स्मार्टफोन में अलग से ऑपरेटिंग सिस्टम होता हैं. इसलिए यूजर्स को ज्यादा फीचर तथा सहुलियत मिल पाती हैं. Android, iOS कुछ मोबाईल ऑपरेटिंग सिस्टम हैं.
Sensors – स्मार्टफोन में कई प्रकार के सेंसर भी लगे होते हैं. जिनमें Gyroscope, Ambient Light Sensor, Proximity, Accelerometer, Digital Compass आदि शामिल हैं.
Body – आंतरिक उपकरणों को सुरक्षा देने तथा दिखावट को सुंदर बनाने के लिए प्लास्टिक या मैटल बॉडी का इस्तेमाल होता हैं. जिसमें यूजर के लिए कुछ जरूरी बटन भी लगे होते हैं. जैसे; Volume Button, Power Button आदि.

आपने क्या सीखा?

इस लेख में हमने आपको स्मार्टफोन के बारे में पूरी जानकारी दी हैं. आपने जाना कि स्मार्टफोन क्या होता हैं? इसके उपयोग, मुख्य भाग आदि. हमे उम्मीद है कि यह लेख आपके लिए उपयोगी साबित होगा.
Reactions

Post a Comment

0 Comments